रचनात्मकता का विस्फोट

रचनात्मकता, किसी विषय की अपनी व्याख्या को विश्लेषित एवं प्रचलित करने की आपकी योग्यता है.

उदहारणतया, यदि पांच बच्चे किसी मानव का चित्र बनायें तो उन सबका अपना-अपना अलग तरीका होगा।  कुछ उसमें सीधी लकीरें ही खींचेंगे तो कुछ उसमें और विस्तार देंगे।  यहाँ रचनात्मकता को बेहतर बनाना सिर्फ चित्र को बेहतर बनाना ही नहीं है; यह आपकी कल्पना के साथ आपकी बेहतर समझ की शक्ति को उन्मुक्त करना है।  इसलिए यहाँ पर कुछ बातें हैं जो मैं चाहता हूँ कि आप आपने मष्तिष्क में धारण करें:

  • आप जो भी करें उत्साह के साथ करें। उत्साहहीन न बनें। यह आपकी रचनात्मकता के फलने-फूलने के लिये अति आवश्यक है।
  • पिछली नाकामियों या भविष्य में आने वाले किसी परिणाम की उम्मीद से परेशान न हों।  जब आपकी समस्त ऊर्जा भूत और भविष्य से निकल आती है तो आपके भीतर ऊर्जा का एक जबरदस्त विस्फोट होता है।  यह ऊर्जा का विस्फोट रचनात्मकता कहलाता है।
  • समस्त रचनात्मकता एक प्रकार का खेल है। खेल की तरह इसका आनंद लें। गंभीर लोग किसी प्रकार की रचना नहीं कर सकते।  उनका पूरा जीवन गंभीर बने रहने में ही बीत जाता है। इसलिए हर समय खिलाड़ी बने रहना सीखिए। रचनात्मकता उनके अन्दर आती है जो सदैव सरल, कोमल और स्वाभाविक रहते हैं। वे जो करते हैं वही एक रचनात्मक घटना बन जाती है।
  • यह वैज्ञानिक रूप से स्थापित और स्वीकार किया जा चुका है कि जब कोई मनुष्य भीतर से आनंदित या प्रेरित अनुभव करता है तो इसके साथ ही उसके मष्तिष्क की ओर ऊर्जा का ऊर्ध्वगामी प्रवाह होता है। यदि वह खिन्न या हतोत्साहित अनुभव करता है तो इसके अनुरूप ही वह ऊर्जा का अधोगामी प्रवाह भी अनुभव करता है। जब किसी की ऊर्जा का प्रवाह ऊर्ध्वगामी होता है उसी समय बुद्धिमत्ता का विस्फोट होता है।
  • क्षात्रों के लिये महा मेधा क्रिया ध्यान की एक अति उत्तम युक्ति है क्योंकि यह स्मरण शक्ति की वृद्धि, बुद्धिमत्ता, रचनात्मकता, एकाग्रता एवं आत्मविश्वास को बढ़ाती है। यह क्रिया तनाव और चिंता के स्तर को घटाने में मदद करती है और जबरदस्त ऊर्जा के निस्तार को सुगम करती है क्योंकि जो ऊर्जा तनाव और चिंता में फंसी हुई थी अब वो वहां पर नहीं है।  अब यह आपके लिये उपलब्ध है और अब आप और बेहतर रचना कर सकते हैं।
  • मानव ऊर्जा को रचनात्मकता की तरफ मोड़ने का महत्तम स्रोत प्रेम है।  जितना अधिक आप प्रेमपूर्ण होंगे उतना ही अधिक आपकी ऊर्जा रचनात्मक दिशा में प्रवाहित होने लगेगी।
  • अंततोगत्वा, स्वयं की खातिर ऐसा कुछ खोजिये जिसका आप सुविधापूर्वक, आसानी से एवं अनायास ही आनंद ले सकें। अपने  लिये कुछ रचनात्मक शौक जैसे पेंटिंग, ड्राइंग आदि चुनें।

ऊपर लिखी हुई बातों का अनुसरण करें और अपनी रचनात्मकता का विस्फोट स्वयं अनुभव करें।

महामेधा क्रिया की अधिक जानकारी के लिये यहाँ क्लिक करें।

About अजय प्रताप सिंह

Light Worker

Posted on जून 20, 2012, in गुरु वाणी, प्रवचन. Bookmark the permalink. टिप्पणी करे.

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s